नई दिल्ली. तीन दिवसीय दौरे पर भारत आई यूनाइटेड नेशन (यूएन) में अमेरिकी राजदूत निकी हेले बुधवार को दिल्ली के हुमायूं मकबरा घूमने पहुंची. इस दौरान हेले ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि उनकी इस यात्रा का उद्देश्य भारत और अमेरिका दोनों देशों के बीच के संबंधों को मजबूत करना है. भारतीय मूल की निकी हेले, ट्रंप सरकार में अमेरिकी राजदूत की जिम्मेदारी हासिल करने के बाद पहली बार भारत दौरे पर आई हैं. इससे पहले नवंबर 2016 में निकी भारत दौरे पर आई थीं जब डोनाल्ड ट्रंप को अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में जबरदस्त जीत हासिल हुई थी. निकी ने आगे कहा, ‘भारत वापस आने पर मुझे खुशी है. हुमायूं का मकबरा उतना ही सुंदर है जितना मैंने सोचा था. हुमायूं का मकबरा जोकि हमें याद दिलाता है कि हम संस्कृति को कितना महत्व देते है. भारत संस्कृति के संरक्षण को महत्व देता है.’

तीन दिवसीय दौरे पर आई हेले का उद्देश्य भारत-अमेरिका के अवसरों को आगे बढ़ाने के कई तरीकों की तलाश करना है. उन्होंने कहा कि भारत के लिए अमेरिका के प्यार को मजबूत करना, दोनों देशों की दोस्ती में विश्वास और उस संबंध को और भी मजबूत बनाने की इच्छा है. संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी मिशन के मुताबिक, हेली भारत के वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों से मुलाकात करेंगी. वह अमेरिका, भारत संबंधों को उन्नत बनाने के लिए कारोबारियों के समूह, सरकारी अधिकारियों, छात्रों और नागरिक समाजों के प्रतिनिधियों से मुलाकात करेंगी. ट्रंप प्रशासन अपनी इंडो पैसिफिक रणनीति के तहत भारत के साथ अपने संबंधों को बढ़ाने का इच्छुक है और साथ में अपने सहायता कार्यक्रमों के जरिए अफगानिस्तान को स्थिर बनाने में मदद करना चाहता है. हेली के पिता अजीत सिंह रंधावा और मां राज कौर रंधावा अमृतसर से अमेरिका जाकर बस गए थे. हेली आखिरी बार 2013 में भारत आईं थीं, वह उस समय साउथ कैरोलिना की गवर्नर थीं.